© बी.जी.शर्मा; इस ब्लॉग पर उपलब्ध सामग्री प्रकाशित हो चुकी है, सर्वाधिकार लेखक के पास सुरक्षित है| बिना लिखित अनुमति इस ब्लॉग की सामग्री का कहीं भी और किसी भी प्रारूप में प्रयोग करना वर्जित है।

मंगलवार, 3 जनवरी 2012

आओ पतंग उड़ाओ


[
 दधिमती मासिक पत्रिका के स्तम्भ  "बाल फुलवारी"  के लिए मकर संक्रांति  के अवसर पर बाल मनो विज्ञान को ध्यान में रख कर लिखी गयी कवितायें ! चूँकि यह सृजन बच्चों के लिए है अतः बाल सुलभ मनोरंजन ही इन में देखें न कि बौद्धिकता ! हालांकि कवितायें शिक्षा प्रद व  संदेशपरक है !]

आओ पतंग उड़ाओ


आओ   आओ  पतंग  उडाओ
चुन्नू   आओ    मुन्नू   आओ
डोर  समेटो   चरखी   पकड़ो
बात सुनो  तुम यों  ना झगड़ो

पतंग   सिखाये   अच्छी  बात
अनुकूल   ना     हो      हालात
सहज  ही  न  डालो    हथियार
संघर्ष   को  तुम दो   नयी धार

हवा  विरोधी , ये    न  घबराती
प्रतिरोध  से   ये   शक्ति   पाती
विरोध  को  अवलम्ब  बनाकर
आसमान    को  यह  छू   जाती

डोर    है    मर्यादा   का    बंधन
बंधी   है   तब तक  ही पतंग  है
कटी   डोर    से   हुयी  निरर्थक
कटी पतंग  के  न  कोई  संग है


मम्मी पतंग दिलाओ


देखो हर छत पर  लोग जमा
चिल्लाये  लगा कर पूरा जोर
ये   काटा   और   ये      मारा
का मचा रहे हैं मिल कर शोर


मम्मी अब तुम मुझे दिला दो
मैं    भी   पतंग      उड़ा उंगा
ऊंचे   आसमान  ले  जा   कर
मैं     भी    पेंच       लड़ा उंगा


भैया  ज़रा   ये चरखी  पकड़ो
बात बात पर   यों ना अकडो
दीदी  लो  तुम    डोर   समेटो
मुह  ना फुलावो  यों  ना  एंठो

आओ मिल कर पतंग उड़ायें
आसमान  पर  हम छा जाएँ
मेल जोल  से दुनिया चलती
ये   समझें  सबको  समझाएं


अपनी  नहीं  मैं  कटने  दूंगा
औरों   की   मैं    दूंगा    काट
जो    लूटूँगा    डोर     पतंगें
सब  बच्चों  में   दुंगा     बाँट


फीनी


घेवर   की   पक्की  है   सहेली
मानो  बुनी   हो   रेशेदार पहेली
बुढ़िया   के  बालों  का   गुच्छा
या   सूती   धागों    का  लच्छा

खुशबु   देती  है   भीनी   भीनी
संग   मिली  जब  इसके चीनी
सबको  भाये  सबको ललचाये
संक्रांती   का  पकवान है फीनी


घेवर


प्रभु  हम  को  दो  यह मीठा   वर
खाने    को    मिल    जाए   घेवर
हो   रबड़ी    वाला    या  हो  सादा
पूरा   ना    हो    भले   हो    आधा

इस    व्यंजन     के  है   कई   भेद
रंग   बिरंगे   तो   कुछ   है  सफ़ेद
पर   देखो सबका  है  एक भूगोल
सब  का  चेहरा  है  चाँद  सा गोल



गुलगुला


मीठा   मीठा   फूला    फूला
मानो  हो  काला  रसगुल्ला
पानी  ये  मुह  में  ले  आता
घर में है यह सब को भाता

बिना  फूंक  मार  जो  खाए
उसकी  तो  ये जीभ जलाए
गुड है  इसका घटक प्रधान
सक्रांति का मुख्य पकवान

छोटों  की  संगत  न सहता
संग  बड़ों  के  हरदम रहता
बच्चे  जो  ये  कविता पढेंगे
पढ़कर  इसका स्वाद चखेंगे


लड्डू तिल के


घेवर   और  फीनी  की  जोड़ी
संग  रहे  दोनों  हिल मिल के
पर  व्यंजन  में  बेमिसाल  है
ताकत   देते   लड्डू   तिल के

चबा  चबा  के   खाओ  लड्डू
ये     ऊर्जा     देते     भरपूर
गजक  रेवड़ी  व तिल पट्टी
सर्दी    भगाये   कोसों     दूर

हल्ला  गुल्ला    खेल   कूद  व
पतंग उडाओ तुम सब मिल के
और   मिठाई     यदा  कदा लो
रोज   खाइए    लड्डू  तिल के
क्या आपको रचना पसंद आई !

ई-मेल द्वारा प्राप्त करें !

अनुसरण करें !

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपके विचारों और सुझावों का स्वागत है -

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...